9 साल की दलित बच्ची का पुजारी समेत साथियों ने किया था बलात्कार। अब पुलिस बोली – जले हुए सबूतों में नहीं मिल रहे हैं बलात्कारियों के वीर्य।

  • Whatsapp

दिल्ली कैंट इलाके में एक श्मशान घाट में अगस्त महीने में नौ वर्षीय दलित बच्ची की कथित रूप से बलात्कार के बाद हत्या किए जाने के मामले में पुलिस ने अदालत में आरोप पत्र दाखिल किया है। इसमें दावा किया गया है कि फॉरेंसिक रिपोर्ट में चारों आरोपियों और बच्ची के जले हुए कपड़े के टुकड़े पर वीर्य की मौजूदगी की पुष्टि नहीं हुई है। यह आरोप पत्र 27 अक्टूबर को अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश आशुतोष कुमार की अदालत में दाखिल किया गया है।

आरोप पत्र में दावा किया गया है कि फॉरेंसिक रिपोर्ट में चारों आरोपियों के कपड़ों या उस चादर पर पीड़िता के खून के निशानों की पुष्टि अब तक नहीं हुई है जिसपर कथित अपराध हुआ था।

Read More

पुलिस ने मामले में दक्षिण-पश्चिम जिले के श्मशान घाट के 55 वर्षीय पुजारी राधेश्याम और उसके कर्मचारियों कुलदीप सिंह, सलीम अहमद और लक्ष्मी नारायण को गिरफ्तार किया था।

आरोप पत्र के साथ दाखिल की गई फॉरेंसिक साइंस लेबोरेटरी (एफएसएल) की रिपोर्ट में दावा किया गया है कि श्मशान में आरोपी के कमरे से जब्त की गई चादर से भी वीर्य का पता नहीं चला है।

हालांकि पुलिस ने कहा कि सिंह का खून उसके शॉर्ट्स और रूमाल से मिला है। इसमें कहा गया है कि एक अगस्त को श्मशान घाट के शव प्रविष्टि रजिस्टर में दर्ज की गई प्रविष्टि आरोपी राधेश्याम के हस्ताक्षर से मेल खाती है।

उसमें दावा किया गया है यह स्पष्ट है कि रजिस्टर में प्रविष्टियां आरोपी श्याम ने दर्ज की थी।

पुलिस ने पहले भारतीय दंड संहिता की धारा 302 (हत्या), 304 (गैर इरादतन हत्या), 376डी (सामूहिक बलात्कार), 342 (गलत तरीके से कैद करना), 506 (धमकी देना), 201 (सबूत नष्ट करना) और 34 (समान मंशा) के साथ-साथ यौन अपराधों से बच्चों का संरक्षण अधिनियम (पोक्सो) की धारा तीन और छह तथा अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) कानून के तहत आरोप पत्र दायर किया था।

अब इन सब में गरीब दलित बच्ची जिसकी हत्या 9 साल की उम्र में हुई है और कथित बलात्कार हुआ है, उसके माँ-बाप कब तक इंसाफ के लिए तड़पते रहेंगे?

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *