जामिया के अरीब अहमद बने ISRO के साइंटिस्ट। परिवार वाले गर्व से फूले नहीं समा रहे हैं।

  • Whatsapp

जामिया मिलिया इस्लामिया से इंजीनियरिंग करने वाले अरीब अहमद ने भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन इसरो (ISRO) में वैज्ञानिक पद पर चयन होकर सभी को हैरान कर दिया है आपको बता दे कि अरीब अहमद उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जनपद के खतौली के रहने वाले है।

बेहद गरीब घर से हैं अरीब अहमद

 

Read More

 

 

वे अब इसरो (ISRO) में अपनी सेवाएं देंगे। इसरो में चयन के बाद उनके घर वालो में खुशी का ठिकाना नही है।

उनके पिता काजी महताब जिया और माँ नाजरीन के बेटे ने इंटरमीडिएट की परीक्षा। गोल्डन हार्ट एकेडमी से हासिल की।

इसके बाद वो इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के लिए दिल्ली की जामिया मिलिया इस्लामिया में आ गए थे ।

बचपन से ही वैज्ञानिक बनने का था जुनून

अहमद के पिता काजी महताब कहते है कि उनके बेटे ने इंटरमीडिएट की परीक्षा पास करने के बाद वैज्ञानिक बनने की इच्छा थी।

इसके लिए उन्होंने दिन रात मेहनत की और खवाहिश को पाने के लिए रात दिन मेहनत किया।

अरीब अहमद के मामा असद फारुखी ने कहा की उनका भांजा शुरू से पढ़ाई में तेज था और एक निश्चित लक्ष्य लेकर चल रहा था।

बता दे, अरीब अहमद का हाल ही में एफसीआई में चयन हुआ है। और उनकी छह माह की ट्रेनिंग भी पुरी हो चुकी है।

लेकिन उनका इसी बीच इसरो का रिजल्ट घोषित हो गया। अहमद का इसरो (ISRO) में इंजीनियरिंग वैज्ञानिक के पद पर चयन हुआ है।अरीब ने कहा कि उनका परिवार एफसीआई में हुए चयन से बेहद खुश है।

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *