कोयले की कमी दिखाकर प्लांट प्राइवेट कंपनी को बेचने की हो सकती है साज़िश! – राकेश टिकैत ने दी चेतावनी।

  • Whatsapp

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में किसानों के साथ हुई हिंसा के मामले में लगातार भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता और किसान नेता राकेश टिकैत तक मोदी सरकार के खिलाफ हमलावर हो रहे हैं।

लखीमपुर खीरी के तिकुनिया में संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा आयोजित मृतक किसानों की श्रद्धांजलि सभा कार्यक्रम में पहुंचे किसान नेता राकेश टिकैत ने हिंसा के आरोपी आशीष मिश्रा के पिता और गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा की गिरफ्तारी की मांग की।

Read More

किसानों ने बड़े आंदोलन की दी है चेतावनी

गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के इस्तीफा ना दिए जाने पर किसान संगठनों ने आंदोलन शुरू करने की चेतावनी भी दी है।

किसान संगठनों का कहना है कि जब तक अजय मिश्रा केंद्रीय गृह राज्य मंत्री पद पर बैठे हैं। तब तक इस मामले में निष्पक्ष जांच हो ही नहीं सकती।

इसके साथ ही उन्होंने देश में आई कोयले की कमी का मुद्दा भी उठाया। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार प्राइवेट कंपनियों को अगर बिजली मिलेगी तो जो बिजली का यूनिट इस वक्त 7 रुपए है।

कोयले की कमी को टिकैत ने बताया साज़िश

वो सीधा 15 रुपए पर चला जाएगा। यह सब जानबूझकर कोयले की कमी दिखा रहे हैं।

ताकि प्राइवेट कंपनियों को बिजली दी जा सके। अगर साल 2024 में मोदी सरकार को सत्ता से नहीं हटाया गया तो बहुत परेशानी होने वाली है।

इसके साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमलावर होते हुए राकेश टिकैत ने आगे कहा कि किसानों के लिए लाए गए कृषि कानून काले हैं और देश के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी काले हैं। जितना जल्दी यह चले जाएं उतनी ही राहत मिलेगी।

राकेश टिकैत का कहना है कि 1 जनवरी 2022 से सारी तस्वीर साफ हो जाएगी। देखते हैं कि अगले साल कितनी फसलें दोगुने दाम पर बिकने वाली है।

इसके साथ ही उन्होंने कृषि कानूनों का विरोध करते हुए कहा कि देश के किसानों के लिए यह कृषि कानून काले ही हैं।

हमारी मांग है कि सरकार इन तीनों काले कानून को वापस ले और एमएसपी के दाम तय किए जाएं। नहीं तो यह किसान आंदोलन चलता रहेगा।

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *